चलो, तुमको लेकर चलें

चलो, इंद्रधनुष के अंत तक चलें |
सुना है वहाँ परियाँ मटकियों में सोने के सिक्के छिपाती हैं,
वहाँ एक सपनों की दुकान करते हैं – हरे गुलाबी रजनीगंधा की खुशबू वाले दिन में टिमटिमाते सपने |
उनको कोई ग़रीबन  की बेटी बालों में जूड़े संग गूथ लेगी,
या कोई फकीरन का बच्चा आँसुओं संग खिचड़ी बना कर भूख मिटा लेगा | Continue reading →

We at LSD – Part 1

Here we welcome you, amongst the red stones

Where we have, our own Game of Thrones.

 

Quizzers are the Wildlings, their beards so long,

Perennially in pursuit, of right and wrong.

Mighty they stand, north of the wall,

And shower questions, like arrows tall.

 

Writers are the Starks, royal and upright,

Displaying through pen, their creative might.

They are the wolves, devouring prose,

From the Origins to the Deathly Hallows.

 

Continue reading →